Translate

Saturday, 28 March 2015

अध्याय 6 श्लोक 6 - 42 , BG 6 - 42 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 6 श्लोक 42


अथवा (यदि दीर्घकाल तक योग करने के बाद असफल रहे तो) वह ऐसे योगियों के कुल में जन्म लेता है जो अति बुद्धिमान हैं | निश्चय ही इस संसार में ऐसा जन्म दुर्लभ है |



अध्याय 6 : ध्यानयोग

श्लोक 6 . 42

अथवा योगिनामेव कुले भवति धीमताम् |
          एतद्धि दुर्लभतरं लोके जन्म यदीदृशम् || ४२ ||


अथवा – या; योगिनाम् – विद्वान योगियों के; एव – निश्चय ही; कुले – परिवार में; भवति – जन्म लेता है; धि-मताम् – परम बुद्धिमानों के; एतत् – यह; हि – निश्चय ही; दुर्लभ-तरम् – अत्यन्त दुर्लभ; लोके – इस संसार में; जन्म – जन्म; यत् – जो; ईदृशम् – इस प्रकार का |
भावार्थ
अथवा (यदि दीर्घकाल तक योग करने के बाद असफल रहे तो) वह ऐसे योगियों के कुल में जन्म लेता है जो अति बुद्धिमान हैं | निश्चय ही इस संसार में ऐसा जन्म दुर्लभ है |

 तात्पर्य




यहाँ पर योगियों के बुद्धिमान कुल में जन्म लेने की प्रशंसा की गई है क्योंकि ऐसे कुल में उत्पन्न बालक को प्रारम्भ से ही आध्यात्मिक प्रोत्साहन प्राप्त होता है | विशेषतया आचार्यों या गोस्वामियों के कुल में ऐसी परिस्थिति है | ऐसे कुल अत्यन्त विद्वान होते हैं और परम्परा तथा प्रशिक्षण के कारण श्रद्धावान होते हैं | इस प्रकार वे गुरु बनते हैं | भारत में ऐसे अनेक आचार्य कुल हैं, किन्तु अब वे अपर्याप्त विद्या तथा प्रशिक्षण के कारण पतनशील हो चुके हैं | भगवत्कृपा से अभी भी कुछ ऐसे परिवार हैं जिनके पीढ़ी-दर-पीढ़ी योगियों को प्रश्रय मिलता है | ऐसे परिवारों में जन्म लेना सचमुच ही अत्यन्त सौभाग्य की बात है | सौभाग्यवश हमारे गुरु विष्णुपाद श्रीश्रीमद्भक्तिसिद्धान्त सरस्वती गोस्वामी महाराज को तथा स्वयं हमें भी ऐसे परिवारों में जन्म लेने का अवसर प्राप्त हुआ | हम दोनों को बचपन से ही भगवद्भक्ति करने का प्रशिक्षण दिया गया | बाद में दिव्य व्यवस्था के अनुसार हमारी भेंट हुई |





1 2 3 4 5 6 7 8 9 10

11 12 13 14 15 16 17 18 19 20

21 22 23 24 25 26 27 28 29 30

31 32 33 34 35 36 37 38 39 40

41 42 43 44 45 46 47



<< © सर्वाधिकार सुरक्षित भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .

No comments:

Post a Comment