Translate

Saturday, 7 March 2015

अध्याय 6 श्लोक 6 - 27 , BG 6 - 27 Bhagavad Gita As It Is Hindi



 अध्याय 6 श्लोक 27

जिस योगी का मन मुझ में स्थिर रहता है, वह निश्चय ही दिव्यसुख की सर्वोच्च सिद्धि प्राप्त करता है | वह रजोगुण से परे हो जाता है, वह परमात्मा के साथ अपनी गुणात्मक एकता को समझता है और इस प्रकार अपने समस्त विगत कर्मों के फल से निवृत्त हो जाता है |




अध्याय 6 : ध्यानयोग

श्लोक 6 . 27



प्रशान्तमनसं ह्येनं योगिनं सुखमुत्तमम् |

       उपैति शान्तरजसं ब्रह्मभूतमकल्मषम् || २७ ||





प्रशान्त कृष्ण के चरणकमलों में स्थित; मनसम् जिसका मन; हि निश्चय ही; एनम् यह; योगिनम् योगी; सुखम् सुख; उत्तमम् सर्वोच्च; उपैति प्राप्त करता है; शान्त-रजसम् जिसकी कामेच्छा शान्त हो चुकी है; ब्रह्म-भूतम् परमात्मा के साथ अपनी पहचान द्वारा मुक्ति; अकल्मषम् समस्त पूर्व पापकर्मों से मुक्त |


भावार्थ

जिस योगी का मन मुझ में स्थिर रहता है, वह निश्चय ही दिव्यसुख की सर्वोच्च सिद्धि प्राप्त करता है | वह रजोगुण से परे हो जाता है, वह परमात्मा के साथ अपनी गुणात्मक एकता को समझता है और इस प्रकार अपने समस्त विगत कर्मों के फल से निवृत्त हो जाता है |

 तात्पर्य




ब्रह्मभूत वह अवस्था है जिसमें भौतिक कल्मष से मुक्त होकर भगवान् की दिव्यसेवा में स्थित हुआ जाता है | मद्भक्तिं लभते पराम् (भगवद्गीता १८.५४) | जब तक मनुष्य का मन भगवान् के चरणकमलों में स्थिर नहीं हो जाता तब तक कोई ब्रह्मरूप में नहीं रह सकता | स वै मनः कृष्णपदारविन्दयोः | भगवान् की दिव्य प्रेमभक्ति में निरन्तर प्रवृत्त रहना या कृष्णभावनामृत में रहना वस्तुतः रजोगुण तथा भौतिक कल्मष से मुक्त होना है |


1 2 3 4 5 6 7 8 9 10

11 12 13 14 15 16 17 18 19 20

21 22 23 24 25 26 27 28 29 30

31 32 33 34 35 36 37 38 39 40

41 42 43 44 45 46 47





<< © सर्वाधिकार सुरक्षित भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .

No comments:

Post a Comment