Translate

Saturday, 7 March 2015

अध्याय 6 श्लोक 6 - 26 , BG 6 - 26 Bhagavad Gita As It Is Hindi



 अध्याय 6 श्लोक 26

मन अपनी चंचलता तथा अस्थिरता के कारण जहाँ कहीं भी विचरण 

करता हो,मनुष्य को चाहिए कि उसे वहाँ से खींचे और अपने वश में लाए |




अध्याय 6 : ध्यानयोग

श्लोक 6 . 26


यतो यतो निश्र्चलति मनश्र्चञ्चलमस्थिरम् |

     ततस्ततो नियम्यैतदात्मन्येव वशं नयेत् || २६ ||



यतः यतः – जहाँ जहाँ भी; निश्र्चलति – विचलित होता है; मनः – मन; 

चञ्चलम् – चलायमान; अस्थिरम् – अस्थिर; ततः ततः – वहाँ वहाँ से; 

नियम्य – वश में करके; एतत् – इस; आत्मनि – अपने; एव – निश्चय 

ही; वशम् – वश में; नयेत् – ले आए |
भावार्थ


मन अपनी चंचलता तथा अस्थिरता के कारण जहाँ कहीं भी विचरण 

करता हो,मनुष्य को चाहिए कि उसे वहाँ से खींचे और अपने वश में लाए |
 तात्पर्य



मन स्वभाव से चंचल और अस्थिर है | किन्तु स्वरुपसिद्ध योगी को मन को वश में लाना होता है, उस पर मन का धिकार नहीं होना चाहिए | जो मन को (तथा इन्द्रियों को भी) वश में रखता है, वह गोस्वामी या स्वामी कहलाता है और जो मन के वशीभूत होता है वह गोदास अर्थात् इन्द्रियों का सेवक कहलाता है | गोस्वामी इन्द्रियसुख के मानक से भिज्ञ होता है | दिव्य इन्द्रियसुख वह है जिसमें इन्द्रियाँ हृषिकेश अर्थात् इन्द्रियों के स्वामी भगवान् कृष्ण की सेवा में लगी रहती हैं | शुद्ध इन्द्रियों के द्वारा कृष्ण की सेवा ही कृष्णचेतना या कृष्णभावनामृत कहलाती है | इन्द्रियों को पूर्णवश में लाने की यही विधि है | इससे भी बढ़कर बात यह है कि यह योगाभ्यास की परम सिद्धि भी है |




1 2 3 4 5 6 7 8 9 10

11 12 13 14 15 16 17 18 19 20

21 22 23 24 25 26 27 28 29 30

31 32 33 34 35 36 37 38 39 40

41 42 43 44 45 46 47





<< © सर्वाधिकार सुरक्षित भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .

No comments:

Post a Comment