Translate

Sunday, 20 December 2015

अध्याय 9 श्लोक 9 - 18 , BG 9 - 18 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 9 श्लोक 18
मैं ही लक्ष्य, पालनकर्ता, स्वामी, साक्षी, धाम, शरणस्थली तथा अत्यन्तप्रिय मित्र हूँ | मैं सृष्टि तथा प्रलय, सबका आधार, आश्रय तथा अविनाशी बीज भी हूँ|



अध्याय 9 : परम गुह्य ज्ञान

श्लोक 9 . 18




गतिर्भर्ता प्रभु: साक्षी निवासः शरणं सुहृत् |
प्रभवः प्रलयः स्थानं निधानं बीजमव्ययम् || १८ ||



गतिः – लक्ष्य; भर्ता – पालक; प्रभुः – भगवान्; साक्षी – गवाह; निवासः– धाम; शरणम् – शरण; सुहृत् – घनिष्ठ मित्र; प्रभवः – सृष्टि; प्रलयः – संहार;स्थानम् – भूमि, स्थिति; निधानम् – आश्रय, विश्राम स्थल; बीजम् – बीज, कारण;अव्ययम् – अविनाशी |


भावार्थ

मैं ही लक्ष्य, पालनकर्ता, स्वामी, साक्षी, धाम, शरणस्थली तथा अत्यन्तप्रिय मित्र हूँ | मैं सृष्टि तथा प्रलय, सबका आधार, आश्रय तथा अविनाशी बीज भी हूँ|


तात्पर्य




गति का अर्थ है गन्तव्य या लक्ष्य, जहाँ हम जाना चाहते हैं| लेकिन चरमलक्ष्य तो कृष्ण हैं, यद्यपि लोग इसे जानते नहीं | जो कृष्ण को नहींजानता वह पथभ्रष्ट हो जाता है और उसकी तथाकथित प्रगति या तो आंशिक होती है या फिरभ्रमपूर्ण | ऐसे अनेक लोग हैं जो देवताओं को ही अपना लक्ष्य बनाते हैं और तदानुसारकठोर नियमों का पालन करते हुए चन्द्रलोक, सूर्यलोक, इन्द्रलोक, महर्लोक जैसेविभिन्न लोकों को प्राप्त होते हैं | किन्तु ये सारे लोक कृष्ण की ही सृष्टि होनेके करान कृष्ण हैं और नहीं भी हैं | ऐसे लोक भी कृष्ण की शक्ति की अभिव्यक्तियाँहोने के कारण कृष्ण हैं, किन्तु वस्तुतः वे कृष्ण की अनुभूति की दिशा में सोपान काकार्य करते हैं | कृष्ण की विभिन्न शक्तियों तक पहुँचने का अर्थ है अप्रत्यक्षतःकृष्ण तक पहुँचना | अतः मनुष्य को चाहिए कि कृष्ण तक सीधे पहुँचे, क्योंकि इससेसमय तथा शक्ति की बचत होगी | उदाहरणार्थ, यदि किसी ऊँची इमारत की छोटी तक एलीवेटर(लिफ्ट) के द्वारा पहुँचने की सुविधा हो तो फिर एक-एक सीढ़ी करके ऊपर क्यों चढ़ाजाये? सब कुछ कृष्ण की शक्ति पर आश्रित है | प्रत्येक जीव के हृदय में स्थित होनेके कारण कृष्ण परं साक्षी हैं | हमारा घर, देश या लोक जहाँ पर हम रह रहें हैं, सबकुछ कृष्ण का है | शरण के लिए कृष्ण परं गन्तव्य हैं, अतः मनुष्य को चाहिए कि अपनीरक्षा या अपने कष्टों के विनाश के लिए कृष्ण की शरण ग्रहण करे | हम चाहें जहाँ भीशरण लें हमें जानना चाहिए कि हमारा आश्रय कोई जीवित शक्ति होनी चाहिए | कृष्ण परमजीव हैं | चूँकि कृष्ण हमारी उत्पत्ति के कारण या हमारे परमपिता हैं, अतः उनसेबढ़कर न तो कोई मित्र हो सकता है, न शुभचिन्तक | कृष्ण सृष्टि के आदि उद्गम और पलेके पश्चात् परम विश्रामस्थल हैं | अतः कृष्ण सभी कारणों के शाश्र्वत कारण हैं |




1  2  3  4  5  6  7  8  9  10

11  12  13  14  15  16  17  18  19  20

21  22  23  24  25  26  27  28  29  30

31  32  33  34





<< © सर्वाधिकार सुरक्षित भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .

No comments:

Post a Comment