Translate

Sunday, 20 December 2015

अध्याय 9 श्लोक 9 - 33 , BG 9 - 33 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 9 श्लोक 33
फिर धर्मात्मा ब्राह्मणों, भक्तों तथा राजर्षियों के लिए तो कहना ही क्या है! अतः इस क्षणिक दुखमय संसार में आ जाने पर मेरी प्रेमाभक्ति में अपने आपको लगाओ |



अध्याय 9 : परम गुह्य ज्ञान

श्लोक 9 . 33




किंपुनर्ब्राह्मणाःपुण्याभक्ताराजर्षयस्तथा |
अनित्यमसुखंलोकमिमंप्राप्यभजस्वमाम् || ३३ ||






किम् – क्या, कितना; पुनः – फिर; ब्राह्मणाः – ब्राह्मण; पुण्याः – धर्मात्मा; भक्ताः – भक्तगण; राज-ऋषयः – साधु राजे; तथा – भी; अनित्यम् – नाशवान; असुखम् – दुखमय; लोकम् – लोक को; इमम् – इस; प्राप्य – प्राप्त करके; भजस्व – प्रेमाभक्ति में लगो; माम् – मेरी |



भावार्थ



फिर धर्मात्मा ब्राह्मणों, भक्तों तथा राजर्षियों के लिए तो कहना ही क्या है! अतः इस क्षणिक दुखमय संसार में आ जाने पर मेरी प्रेमाभक्ति में अपने आपको लगाओ |

तात्पर्य




इस संसार में कई श्रेणियों के लोग हैं, किन्तु तो भी यह संसार किसी के लिए सुखमय स्थान नहीं है | यहाँ स्पष्ट कहा गया है – अनित्यम् असुखं लोकम् – यह जगत् अनित्य तथा दुखमय है और किसी भी भले मनुष्य के रहने लायक नहीं है | भगवान् इस संसार को क्षणिक तथा दुखमय घोषित कर रहे हैं | कुछ दार्शनिक, विशेष रूप से मायावादी, कहते हैं कि यह संसार मिथ्या है, किन्तु भगवद्गीता से हम यह जान सकते हैं कि यह संसार मिथ्या नहीं है, यह अनित्य है | अनित्य तथा मिथ्या में अन्तर है | यह संसार अनित्य है, किन्तु एक दूसरा भी संसार है जो नित्य है | यह संसार दुखमय है, किन्तु दूसरा संसार नित्य तथा आनन्दमय है |
.
अर्जुन का जन्म ऋषितुल्य राजकुल में हुआ था | अतः भगवान् उससे भी कहते हैं, “मेरी सेवा करो, और शीघ्र ही मेरे धाम को प्राप्त करो |” किसी को भी इस अनित्य संसार में नहीं रहना चाहिए, क्योंकि यह दुखमय है | प्रत्येक व्यक्ति को भगवान् के हृदय से लगना चाहिए, जिससे वह सदैव सुखी रह सके | भगवद्भक्ति ही एकमात्र ऐसी विधि है जिसके द्वारा सभी वर्गों के लोगों की सारी समस्याएँ सुलझाई जा सकती हैं | अतः प्रत्येक व्यक्ति को कृष्णभावनामृत स्वीकार करके अपने जीवन को सफल बनाना चाहिए |



1  2  3  4  5  6  7  8  9  10

11  12  13  14  15  16  17  18  19  20

21  22  23  24  25  26  27  28  29  30

31  32  33  34





<< © सर्वाधिकार सुरक्षित भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .

No comments:

Post a Comment