Translate

Sunday, 20 December 2015

अध्याय 9 श्लोक 9 - 16 , BG 9 - 16 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 9 श्लोक 16
किन्तु मैं ही कर्मकाण्ड, मैं ही यज्ञ, पितरों को दिया जाने वाला अर्पण, औषधि, दिव्य ध्वनि (मन्त्र), घी, अग्नि तथा आहुति हूँ |



अध्याय 9 : परम गुह्य ज्ञान

श्लोक 9 . 16



अहं क्रतुरहं यज्ञः स्वधाहमहमौषधम् |
मन्त्रोSहमहमेवाज्यमहमग्निरहं हुतम् || १६ ||




अहम् – मैं; क्रतुः – वैदिक अनुष्ठान, कर्मकाण्ड; अहम् – मैं; यज्ञः – स्मार्त यज्ञ; स्वधा – तर्पण; अहम् – मैं; अहम् – मैं; औषधम् – जड़ीबूटी; मन्त्रः – दिव्य ध्वनि; अहम् – मैं; एव – निश्चय ही; आज्यम् – घृत; अहम् – मैं; अग्निः – अग्नि; अहम् – मैं; हुतम् – आहुति, भेंट |


भावार्थ

किन्तु मैं ही कर्मकाण्ड, मैं ही यज्ञ, पितरों को दिया जाने वाला अर्पण, औषधि, दिव्य ध्वनि (मन्त्र), घी, अग्नि तथा आहुति हूँ |


तात्पर्य




ज्योतिष्टोम नामक वैदिक यज्ञ भी कृष्ण है | स्मृति में वर्णित महायज्ञ भी वही हैं | पितृलोक को अर्पित तर्पण या पितृलोक को प्रसन्न करने के लिए किया गया यज्ञ, जिसे घृत रूप में एक प्रकार की औषधि माना जाता है, वह भी कृष्ण ही है | इस सम्बन्ध में जिन मन्त्रों का उच्चारण किया जाता है, वे भी कृष्ण हैं | यज्ञों में आहुति के लिए प्रयुक्त होने वाली दुग्ध से बनी अनेक वस्तुएँ भी कृष्ण हैं | अग्नि भी कृष्ण है, क्योंकि यह अग्नि पाँच तत्त्वों में से एक है, अतः वह कृष्ण की भिन्ना शक्ति कही जाती है | दूसरे शब्दों में, वेदों में कर्मकाण्ड भाग में प्रतिपादित वैदिक यज्ञ भी पूर्णरूप से कृष्ण हैं | अथवा यह कह सकते है कि जो लोग कृष्ण की भक्ति में लगे हुए हैं उनके लिए यह समझना चाहिए कि उन्होंने सारे वेदविहित यज्ञ सम्पन्न कर लिए हैं |





1  2  3  4  5  6  7  8  9  10

11  12  13  14  15  16  17  18  19  20

21  22  23  24  25  26  27  28  29  30

31  32  33  34





<< © सर्वाधिकार सुरक्षित भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .

No comments:

Post a Comment