Translate

Friday, 18 September 2015

अध्याय 7 श्लोक 7 - 12 , BG 7 - 12 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 7 श्लोक 12

तुम जान लो कि मेरी शक्ति द्वारा सारे गुण प्रकट होते हैं, चाहे वे सतोगुण हों, रजोगुण हों या तमोगुण हों | एक प्रकार से मैं सब कुछ हूँ, किन्तु हूँ स्वतन्त्र | मैं प्रकृति के गुणों के अधीन नहीं हूँ, अपितु वे मेरे अधीन हैं |



अध्याय 7 : भगवद्ज्ञान

श्लोक 7 . 12



ये चैव सात्त्विका भावा राजसास्तामसाश्र्च ये |
मत्त एवेति तान्विद्धि न त्वहं तेषु ते मयि || १२ ||




ये – जो;– तथा; एव – निश्चय ही; सात्त्विकाः – सतोगुणी; भावाः – भाव; राजसाः – रजोगुणी; तामसाः – तमोगुणी; – भी; ये – जो; मत्तः – मुझसे; एव – निश्चय ही; इति – इस प्रकार; तान् – उनको; विद्धि – जानो; – नहीं; तु – लेकिन; अहम् – मैं; तेषु – उनमें; ते – वे; मयि – मुझमें |

भावार्थ


तुम जान लो कि मेरी शक्ति द्वारा सारे गुण प्रकट होते हैं, चाहे वे सतोगुण हों, रजोगुण हों या तमोगुण हों | एक प्रकार से मैं सब कुछ हूँ, किन्तु हूँ स्वतन्त्र | मैं प्रकृति के गुणों के अधीन नहीं हूँ, अपितु वे मेरे अधीन हैं |



 तात्पर्य



संसार के सारे भौतिक कार्यकलाप प्रकृति के गुणों के अधीन सम्पन्न होते हैं | यद्यपि प्रकृति के गुण परमेश्र्वर कृष्ण से उद्भूत हैं, किन्तु भगवान् उनके अधीन नहीं होते | उदाहरणार्थ, राज्य के नियमानुसार कोई दण्डित हो सकता है, किन्तु नियम बनाने वाला राजा उस नियम के अधीन नहीं होता | इसी प्रकार प्रकृति के सभी गुण – सतो, रजो तथा तमोगुण – भगवान् कृष्ण से उद्भूत हैं, किन्तु कृष्ण प्रकृति के अधीन नहीं हैं | इसीलिए वे निर्गुण हैं, जिसका तात्पर्य है कि सभी गुण उनसे उद्भूत हैं, किन्तु ये उन्हें प्रभावित नहीं करते | यह भगवान् का विशेष लक्षण है |








1  2  3  4  5  6  7  8  9  10

11  12  13  14  15  16  17  18  19  20

21  22  23  24  25  26  27  28  29  30





<< © सर्वाधिकार सुरक्षित भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .

No comments:

Post a Comment