Translate

Friday, 11 September 2015

अध्याय 7 श्लोक 7 - 10 , BG 7 - 10 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 7 श्लोक 10

हे पृथापुत्र! यह जान लो कि मैं ही समस्त जीवों का आदि बीज हूँ, बुद्धिमानों की बुद्धि तथा समस्त तेजस्वी पुरुषों का तेज हूँ |



अध्याय 7 : भगवद्ज्ञान

श्लोक 7 . 10





बीजं मां सर्वभूतानां विद्धि पार्थ सनातनम् |
          बुद्धिर्बुद्धिमतामस्मि तेजस्तेजस्विनामहम् || १० ||



बीजम् – बीज; माम् – मुझको; सर्व-भूतानाम् - समस्त जीवों का; विद्धि – जानने का प्रयास करो; पार्थ – हे पृथापुत्र; सनातनम् – आदि, शाश्र्वत; बुद्धिः – बुद्धि; बुद्धि-मताम् – बुद्धिमानों की; अस्मि – हूँ; तेजः – तेज; तेजस्विनाम् – तेजस्वियों का; अहम् – मैं |


भावार्थ

हे पृथापुत्र! यह जान लो कि मैं ही समस्त जीवों का आदि बीज हूँ, बुद्धिमानों की बुद्धि तथा समस्त तेजस्वी पुरुषों का तेज हूँ |



 तात्पर्य




कृष्ण समस्त पदार्थों के बीज हैं | कई प्रकार के चार तथा अचर जीव हैं | पक्षी, पशु, मनुष्य तथा अन्य सजीव प्राणी चर हैं, पेड़ पौधे अचर हैं – वे चल नहीं सकते, केवल खड़े रहते हैं | प्रत्येक जीव चौरासी लाख योनियों के अन्तर्गत है, जिनमे से कुछ चार हैं और कुछ अचर | किन्तु इस सबके जीवन के बीजस्वरूप श्रीकृष्ण हैं | जैसा कि वैदिक साहित्य में कहा गया है ब्रह्म या परमसत्य वह है जिससे प्रत्येक वस्तु उद्भुत है | कृष्ण परब्रह्म या परमात्मा हैं | ब्रह्म तो निर्विशेष है, किन्तु परब्रह्म साकार है | निर्विशेष ब्रह्म साकार रूप में आधारित है – यह भगवद्गीता में कहा गया है | अतः आदि रूप में कृष्ण समस्त वस्तुओं के उद्गम हैं | वे मूल हैं | जिस प्रकार मूल सारे वृक्ष का पालन करता है उसी प्रकार कृष्ण मूल होने के करण इस जगत् के समस्त प्राणियों का पालन करते हैं | इसकी पुष्टि वैदिक साहित्य में (कठोपनिषद् २.२.१३) हुई है –

नित्यो नित्यानां चेतनश्र्चेतनानाम्
एको बहूनां यो विदधाति कमान्

वे समस्त नित्यों के नित्य हैं | वे समस्त जीवों के परं जीव हैं और वे ही समस्त जीवों का पालन करने वाले हैं | मनुष्य बुद्धि के बिना कुछ भी नहीं कर सकता और कृष्ण भी कहते हैं कि मैं समस्त बुद्धि का मूल हूँ | जब तक मनुष्य बुद्धिमान नहीं होता, वह भगवान् कृष्ण को नहीं समझ सकता |







1  2  3  4  5  6  7  8  9  10

11  12  13  14  15  16  17  18  19  20

21  22  23  24  25  26  27  28  29  30






<< © सर्वाधिकार सुरक्षित भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .

No comments:

Post a Comment