Translate

Friday, 18 September 2015

अध्याय 7 श्लोक 7 - 11 , BG 7 - 11 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 7 श्लोक 11

मैं बलवानों का कामनाओं तथा इच्छा से रहित बल हूँ | हे भरतश्रेष्ठ (अर्जुन)! मैं वह काम हूँ, जो धर्म के विरुद्ध नहीं है |



अध्याय 7 : भगवद्ज्ञान

श्लोक 7 . 11





बलं बलवतां चाहं कामरागविवर्जितम् |
   धर्माविरुद्धो भूतेषु कामोSस्मि भरतर्षभ || ११ ||



बलम् – शक्ति; बल-वताम् – बलवानों का; – तथा; अहम् – मैं हूँ; काम – विषयभोग; राग – तथा आसक्ति से; विवर्जितम् – रहित; धर्म-अविरुद्धः – जो धर्म के विरुद्ध नहीं है; भूतेषु – समस्त जीवों में; कामः – विषयी जीवन; अस्मि – हूँ; भरत-ऋषभ – हे भरतवंशियों में श्रेष्ठ !


भावार्थ

मैं बलवानों का कामनाओं तथा इच्छा से रहित बल हूँ | हे भरतश्रेष्ठ (अर्जुन)! मैं वह काम हूँ, जो धर्म के विरुद्ध नहीं है |



 तात्पर्य



बलवान पुरुष की शक्ति का उपयोग दुर्बलों की रक्षा के लिए होना चाहिए, व्यक्तिगत आक्रमण के लिए नहीं | इसी प्रकार धर्म-सम्मत मैथुन सन्तानोन्पति के लिए होना चाहिए, अन्य कार्यों के लिए नहीं | अतः माता-पिता का उत्तरदायित्व है कि वे अपनी सन्तान को कृष्णभावनाभावित बनाएँ |






1  2  3  4  5  6  7  8  9  10

11  12  13  14  15  16  17  18  19  20

21  22  23  24  25  26  27  28  29  30





<< © सर्वाधिकार सुरक्षित भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .

No comments:

Post a Comment