Translate

Monday, 25 January 2016

अध्याय 10 श्लोक 10 - 39 , BG 10 - 39 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 10 श्लोक 39
यही नहीं, हे अर्जुन! मैं समस्त सृष्टि का जनक बीज हूँ | ऐसा चार तथा अचर कोई भी प्राणी नहीं है, जो मेरे बिना रह सके |



अध्याय 10 : श्रीभगवान् का ऐश्वर्य

श्लोक 10 . 39



यच्चापि सर्वभूतानां बीजं तदहमर्जुन |
न तदस्ति विना यत्स्यान्मया भूतं चराचरम् || ३९ ||


यत् – जो; – भी; अपि – हो सकता है; सर्व-भूतानाम् – समस्त सृष्टियों में; बीजम् – बीज; तत् – वह; अहम् – मैं हूँ; अर्जुन – हे अर्जुन; – नहीं; तत् – वह; अस्ति – है; विना – रहित; यत् – जो; स्यात् – हो; मया – मुझसे; भूतम् – जीव; चर-अचरम् – जंगम तथा जड़ |





भावार्थ



यही नहीं, हे अर्जुन! मैं समस्त सृष्टि का जनक बीज हूँ | ऐसा चार तथा अचर कोई भी प्राणी नहीं है, जो मेरे बिना रह सके |

तात्पर्य




प्रत्येक वस्तु का कारण होता है और इस सृष्टि का कारण या बीज कृष्ण हैं | कृष्ण की शक्ति के बिना कुछ भी नहीं रह सकता, अतः उन्हें सर्वशक्तिमान कहा जाता है | उनकी शक्ति के बिना चार तथा अचर, किसी भी जीव का अस्तित्व नहीं रह सकता | जो कुछ कृष्ण की शक्ति पर आधारित नहीं है, वह माया है अर्थात् “वह जो नहीं है |”





1  2  3  4  5  6  7  8  9  10

11  12  13  14  15  16  17  18  19   20

21  22  23  24  25  26  27  28  29  30

31  32  33  34  35  36  37  38  39  40



41  42





<< © सर्वाधिकार सुरक्षित भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .

No comments:

Post a Comment