Translate

Sunday, 18 October 2015

अध्याय 8 श्लोक 8 - 7 , BG 8 - 7 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 8 श्लोक 7
अतएव, हे अर्जुन! तुम्हें सदैव कृष्ण रूप में मेरा चिन्तन करना चाहिए और साथ ही युद्ध करने के कर्तव्य को भी पूरा करना चाहिए | अपने कर्मों को मुझे समर्पित करके तथा अपने मन एवं बुद्धि को मुझमें स्थिर करके तुम निश्चित रूप से मुझे प्राप्त कर सकोगे |



अध्याय 8 : भगवत्प्राप्ति

श्लोक 8 . 7


तस्मात्सर्वेषु कालेषु मामनुस्मर युध्य च | 
मय्यर्पितमनोबुद्धिर्मामेवैष्यस्यसंशयः || ७ || 




तस्मात् – अतएव; सर्वेषु – समस्त; कालेषु – कालों में; माम् – मुझको; अनुस्मर – स्मरण करते रहो; युध्य – युद्ध करो; – भी; मयि – मुझमें; अर्पित – शरणागत होकर; मनः – मन; बुद्धिः – बुद्धि; माम् – मुझको; एव – निश्चय ही; एष्यसि – प्राप्त करोगे; असंशयः – निस्सन्देह ही |
भावार्थ

अतएव, हे अर्जुन! तुम्हें सदैव कृष्ण रूप में मेरा चिन्तन करना चाहिए और साथ ही युद्ध करने के कर्तव्य को भी पूरा करना चाहिए | अपने कर्मों को मुझे समर्पित करके तथा अपने मन एवं बुद्धि को मुझमें स्थिर करके तुम निश्चित रूप से मुझे प्राप्त कर सकोगे |



तात्पर्य




अर्जुन को दिया गया यह उपदेश भौतिक कार्यों में व्यस्त रहने वाले समस्त व्यक्तियों के लिए बड़ा महत्त्वपूर्ण है | भगवान् यह नहीं कहते कि कोई अपने कर्तव्यों को त्याग दे | मनुष्य उन्हें करते हुए साथ-साथ हरे कृष्ण का जप करके कृष्ण का चिन्तन कर सकता है | इससे मनुष्य भौतिक कल्मष से मुक्त हो जायेगा और अपने मन तथा बुद्धि को कृष्ण में प्रवृत्त करेगा | कृष्ण का नाम-जप करने से मनुष्य परमधाम कृष्णलोक को प्राप्त होगा, इसमें कोई सन्देह नहीं है |







1  2  3  4  5  6  7  8  9  10


11  12  13  14  15  16  17  18  19  20



21  22  23  24  25  26  27  28






<< © सर्वाधिकार सुरक्षित भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .

No comments:

Post a Comment