Translate

Sunday, 18 October 2015

अध्याय 8 श्लोक 8 - 23 , BG 8 - 23 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 8 श्लोक 23
हे भरतश्रेष्ठ! अब मैं उन विभिन्न कालों को बताऊँगा, जिनमें इस संसार से प्रयाण करने के बाद योगी पुनः आता है अथवा नहीं आता |



अध्याय 8 : भगवत्प्राप्ति

श्लोक 8 . 23




यत्र काले त्वनावृत्तिमावृत्तिं चैव योगिनः |
प्रयाता यान्ति तं कालं वक्ष्यामि भरतर्षभ || २३ ||





यत्र – जिस; काले – समय में; तु – तथा; अनावृत्तिम् – वापस न आना; आवृत्तिम् – वापसी; – भी; एव – निश्चय ही; योगिनः – विभिन्न प्रकार के योगी; प्रयाताः – प्रयाण करने वाले; यान्ति प्राप्त करते हैं; तम् – उस; कालम् – काल को; वक्ष्यामि – कहूँगा; भरत-ऋषभ – हे भारतों में श्रेष्ठ!

भावार्थ

हे भरतश्रेष्ठ! अब मैं उन विभिन्न कालों को बताऊँगा, जिनमें इस संसार से प्रयाण करने के बाद योगी पुनः आता है अथवा नहीं आता |



तात्पर्य



परमेश्र्वर के अनन्य, पूर्ण शरणागत भक्तों को इसकी चिन्ता नहीं रहती कि वे कब और किस तरह शरीर को त्यागेंगे | वे सब कुछ कृष्ण पर छोड़ देते हैं और इस तरह सरलतापूर्वक, प्रसन्नता सहित भगवद्धाम जाते हैं | किन्तु जो अनन्य भक्त नहीं हैं और कर्मयोग, ज्ञानयोग तथा हठयोग जैसी आत्म-साक्षात्कार की विधियों पर आश्रित रहते हैं, उन्हें उपयुक्त समय में शरीर त्यागना होता है, जिससे वे आश्र्वस्त हो सकें कि इस जन्म-मृत्यु वाले संसार में उनको लौटना होगा या नहीं |

यदि योगी सिद्ध होता है तो वह इस जगत् से शरीर छोड़ने का समय तथा स्थान चुन सकता है | किन्तु यदि वह इतना पटु नहीं होता तो उसकी सफलता उसके अचानक शरीर त्याग के संयोग पर निर्भर करती है | भगवान् ने अगले श्लोक में ऐसे उचिओत अवसरों का वर्णन किया है कि कब मरने से कोई वापस नहीं आता | आचार्य बलदेव विद्याभूषण के अनुसार यहाँ पर संस्कृत के काल शब्द का प्रयोग काल के अधिष्ठाता देव के लिए हुआ है |








1  2  3  4  5  6  7  8  9  10


11  12  13  14  15  16  17  18  19  20



21  22  23  24  25  26  27  28






<< © सर्वाधिकार सुरक्षित भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .

No comments:

Post a Comment