Translate

Sunday, 18 October 2015

अध्याय 8 श्लोक 8 - 12 , BG 8 - 12 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 8 श्लोक 12
समस्त ऐन्द्रिय क्रियाओं से विरक्ति को योग की स्थिति (योगधारणा) कहा जाता है | इन्द्रियों के समस्त द्वारों को बन्द करके तथा मन को हृदय में और प्राणवायु को सिर पर केन्द्रित करके मनुष्य अपने को योग में स्थापित करता है |



अध्याय 8 : भगवत्प्राप्ति

श्लोक 8 . 12





सर्वद्वाराणि संयम्य मनो हृदि निरुध्य च |
मूध्न्र्याधायात्मनः प्राणमास्थितो योगधारणाम् || १२ ||






सर्व-द्वाराणि – शरीर के समस्त द्वारों को; संयम्य – वश में करके; मनः – मन को; हृदि – हृदय में; निरुध्य – बन्द कर; – भी; आधाय – स्थिर करके; आत्मनः – अपने; प्राणम् – प्राणावायु को; आस्थितः – स्थित; योग-धारणाम् – योग की स्थिति |


भावार्थ

समस्त ऐन्द्रिय क्रियाओं से विरक्ति को योग की स्थिति (योगधारणा) कहा जाता है | इन्द्रियों के समस्त द्वारों को बन्द करके तथा मन को हृदय में और प्राणवायु को सिर पर केन्द्रित करके मनुष्य अपने को योग में स्थापित करता है |




तात्पर्य




इस श्लोक में बताई गई विधि से योगाभ्यास के लिए सबसे पहले इन्द्रियभोग के सारे द्वार बन्द करने होते हैं | यह प्रत्याहार अथवा इन्द्रियविषयों से इन्द्रियों को हटाना कहलाता है | इसमें ज्ञानेन्द्रियों – नेत्र, कान, नाक, जीभ तथा स्पर्श को पूर्णतया वश में करके उन्हें इन्द्रियतृप्ति में लिप्त होने नहीं दिया जाता | इस प्रकार मन हृदय में स्थित परमात्मा पर केन्द्रित होता है और प्राणवायु को सर के ऊपर तक चढ़ाया जाता है | इसका विस्तृत वर्णन छठे अध्याय में हो चुका है | किन्तु जैसा कि पहले कहा जा चुका है अब यह विधि व्यावहारिक नहीं है | सबसे उत्तम विधि तो कृष्णभावनामृत है | यदि कोई भक्ति में अपने मन को कृष्ण में स्थिर करने में समर्थ होता है, तो उसके लिए अविचलित दिव्य समाधि में बने रहना सुगम हो जाता है |







1  2  3  4  5  6  7  8  9  10


11  12  13  14  15  16  17  18  19  20



21  22  23  24  25  26  27  28






<< © सर्वाधिकार सुरक्षित भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .

No comments:

Post a Comment