Translate

Monday, 22 April 2013

अध्याय 2 श्लोक 2 - 49 , BG 2 - 49 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 2 श्लोक 49
हे धनंजय! भक्ति के द्वारा समस्त गर्हित कर्मों से दूर रहो और उसी भाव से भगवान् की शरण करो | जो व्यक्ति अपने सकाम कर्म-फलों को भोगना चाहते हैं, वे कृपण हैं |



अध्याय 2 : गीता का सार

श्लोक 2 . 49

दुरेण ह्यवरं कर्म बुद्धियोगाद्धञ्जय
          बुद्धौ शरणमन्विच्छ कृपणाः फलहेतवः || ४९ ||
 
दूरेण – दूर से ही त्याग दो; हि – निश्चय ही; अवरम् – गर्हित, निन्दनीय; कर्म – कर्म; बुद्धि-योगात् – कृष्णभावनामृत के बल पर; धनञ्जय – हे सम्पत्ति को जीतने वाले; बुद्धौ – ऐसी चेतना में; शरणम् – पूर्ण समर्पण, आश्रयः; अन्विच्छ – प्रयत्न करो; कृपणा – कंजूस व्यक्ति; फल-हेतवः – सकाम कर्म की अभिलाषा वाले |
 
भावार्थ

हे धनंजय! भक्ति के द्वारा समस्त गर्हित कर्मों से दूर रहो और उसी भाव से भगवान् की शरण करो | जो व्यक्ति अपने सकाम कर्म-फलों को भोगना चाहते हैं, वे कृपण हैं |

 तात्पर्य



जो व्यक्ति भगवान् के दास रूप में अपने स्वरूप को समझ लेता है वह कृष्णभावनामृत में स्थित रहने के अतिरिक्त सारे कर्मों को छोड़ देता है | जीव के लिए ऐसी भक्ति कर्म का सही मार्ग है | केवल कृपण ही अपने सकाम कर्मों का फल भोगना चाहते हैं, किन्तु इससे वे भवबन्धन में और अधिक फँसते जाते हैं | कृष्णभावनामृत के अतिरिक्त जितने भी कर्म सम्पन्न किये जाते हैं वे गर्हित हैं क्योंकि इससे करता जन्म-मृत्यु के चक्र में लगातार फँसा रहता है | अतः कभी इसकी आकांशा नहीं करनी चाहिए कि मैं कर्म का कारण बनूँ | कृष्णभावनामृत में हर कार्य कृष्ण की तुष्टि के लिए किया जाना चाहिए | कृपणों को यह ज्ञात नहीं है कि दैववश या कठोर श्रम से अर्जित सम्पत्ति का किस तरह सदुपयोग करें | मनुष्य को अपनी सारी शक्ति कृष्णभावनामृत अर्जित करने में लगानी चाहिए | इससे उसका जीवन सफल हो सकेगा | कृपणों की भाँति अभागे व्यक्ति अपनी मानवीय शक्ति को भगवान् की सेवा में नहीं लगाते |


1  2  3  4  5  6  7  8  9  10

11  12  13  14  15  16  17  18  19  20

21  22  23  24  25  26  27  28  29  30

31  32  33  34  35  36  37  38  39  40

41  42  43  44  45  46  47  48  49  50

51  52  53  54  55  56  57  58  59  60

61  62  63  64  65  66  67  68  69  70

71  72



<< © सर्वाधिकार सुरक्षित , भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .
 
 


No comments:

Post a Comment