Translate

Saturday, 9 March 2013

अध्याय 2 श्लोक 2 - 24 , BG 2 - 24 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 2 श्लोक 24
यह आत्मा अखंडित तथा अघुलनशील है | इसे न तो जलाया जा सकता है, न ही सुखाया जा सकता है | यह शाश्र्वत, सर्वव्यापी, अविकारी, स्थिर तथा सदैव एक सा रहने वाला है |



अध्याय 2 : गीता का सार

श्लोक 2 . 24


अच्छेद्योSयमदाह्योSयमक्लेद्योSशोष्य एव च |
नित्यः सर्वगतः स्थाणुरचलोSयं सनातनः || २४ ||

 
अच्छेद्यः – न टूटने वाला; अयम् – यह आत्मा; अदाह्यः – न जलाया जा सकने वाला; अयम् – यह आत्मा; अक्लेद्यः – अघुलनशील; अशोष्यः – न सुखाया जा सकने वाला; एव – निश्चय ही; – तथा; नित्यः – शाश्र्वत; सर्व-गतः – सर्वव्यापी; स्थाणुः – अपरिवर्तनीय,अविकारी; अचलः – जड़; अयम् – यह आत्मा; सनातनः – सदैव एक सा;
 
भावार्थ
यह आत्मा अखंडित तथा अघुलनशील है | इसे न तो जलाया जा सकता है, न ही सुखाया जा सकता है | यह शाश्र्वत, सर्वव्यापी, अविकारी, स्थिर तथा सदैव एक सा रहने वाला है |

 तात्पर्य


अणु-आत्मा के इतने सारे गुण यही सिद्ध करते हैं कि आत्मा पूर्ण आत्मा का अणु-अंश है और बिना किसी परिवर्तन के निरन्तर उसी तरह बना रहता है | इस प्रसंग में अद्वैतवाद को व्यवहृत करना कठिन है क्योंकि अणु-आत्मा कभी भी परम-आत्मा के साथ मिलकर एक नहीं हो सकता | भौतिक कल्मष से मुक्त होकर अणु-आत्मा भगवान् के तेज की किरणों की आध्यात्मिक स्फुलिंग बनकर रहना चाह सकता है, किन्तु बुद्धिमान जीव तो भगवान् की संगति करने के लिए वैकुण्ठलोक में प्रवेश करता है |

सर्वगत शब्द महत्त्वपूर्ण है क्योंकि इसमें कोई संशय नहीं है कि जीव भगवान् की समग्र सृष्टि में फैले हुए हैं | वे जल, थल, वायु, पृथ्वी के भीतर तथा अग्नि के भीतर भी रहते हैं | जो यह मानता हैं कि वे अग्नि में स्वाहा हो जाते हैं वह ठीक नहीं है क्योंकि यहाँ कहा गया है कि आत्मा को अग्नि द्वारा जलाया नहीं जा सकता | अतः इसमें सन्देह नहीं कि सूर्यलोक में भी उपयुक्त प्राणी निवास करते हैं | यदि सूर्यलोक निर्जन हो तो सर्वगत शब्द निरर्थक हो जाता है |
 



1  2  3  4  5  6  7  8  9  10

11  12  13  14  15  16  17  18  19  20

21  22  23  24  25  26  27  28  29  30

31  32  33  34  35  36  37  38  39  40

41  42  43  44  45  46  47  48  49  50

51  52  53  54  55  56  57  58  59  60

61  62  63  64  65  66  67  68  69  70

71  72



<< © सर्वाधिकार सुरक्षित , भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .
 
 

No comments:

Post a Comment