Translate

Monday, 18 February 2013

अध्याय 2 श्लोक 2 - 11 , BG 2 - 11 Bhagavad Gita As It Is Hindi

 अध्याय 2 श्लोक 11
श्री भगवान् ने कहा – तुम पाण्डित्यपूर्ण वचन कहते हुए उनके लिए शोक कर रहे हो जो शोक करने योग्य नहीं है | जो विद्वान होते हैं, वे न तो जीवित के लिए, न ही मृत के लिए शोक करते हैं |



अध्याय 2 : गीता का सार

श्लोक 2 . 11

श्रीभगवानुवाच
अशोच्यानन्वशोचस्त्वं प्रज्ञावादांश्र्च भाषसे |
      गतासूनगतासूंश्र्च नानुशोचन्ति पण्डिताः || ११ ||
 
श्रीभगवान् उवाच – श्रीभगवान् ने कहा; अशोच्यान् – जो शोक योग्य नहीं है; अन्वशोचः – शोक करते हो; त्वम् – तुम; प्रज्ञावादान् – पाण्डित्यपूर्ण बातें; – भी; भाषसे – कहते हो; गत – चले गये, रहित; असून् – प्राण; अगत – नहीं गये; असून् – प्राण; – भी; – कभी नहीं; अनुशोचन्ति – शोक करते हैं; पण्डिताः – विद्वान लोग |

 
भावार्थ
श्री भगवान् ने कहा – तुम पाण्डित्यपूर्ण वचन कहते हुए उनके लिए शोक कर रहे हो जो शोक करने योग्य नहीं है | जो विद्वान होते हैं, वे न तो जीवित के लिए, न ही मृत के लिए शोक करते हैं |
 
 तात्पर्य
 
भगवान् ने तत्काल गुरु का पद सँभाला और अपने मित्र को अप्रत्यक्षतः मुर्ख कह कर डाँटा | उन्होंने कहा, “तुम विद्वान की तरह बातें करते हो, किन्तु तुम यह नहीं जानते कि जो विद्वान होता है – अर्थात् जो यह जानता है कि शरीर तथा आत्मा क्या है – वह किसी भी अवस्था में शरीर के लिए, चाहे वह जीवित हो या मृत – शोक नहीं करता |” अगले अध्यायों से यह स्पष्ट हो जायेगा कि ज्ञान का अर्थ पदार्थ तथा आत्मा एवं दोनों के नियामक को जानना है | अर्जुन का तर्क था कि राजनीति या समाजनीति की अपेक्षा धर्म को अधिक महत्त्व मिलना चाहिए, किन्तु उसे यह ज्ञात न था कि पदार्थ, आत्मा तथा परमेश्र्वर का ज्ञान धार्मिक सूत्रों से भी अधिक महत्त्वपूर्ण है | और चूँकि उसमे इस ज्ञान का अभाव था, अतः उसे विद्वान नहीं बनना चाहिए था | और चूँकि वह अत्यधिक विद्वान नहीं था इसीलिए वह शोक के सर्वथा अयोग्य वास्तु के लिए शोक कर रहा था | यह शारीर जन्मता है और आज या कल इसका विनाश निश्चित है, अतः शरीर उतना महत्त्वपूर्ण नहीं है जितना कि आत्मा है | जो इस तथ्य को जानता है वही असली विद्वान है और उसके लिए शोक का कोई कारण नहीं हो सकता |


1  2  3  4  5  6  7  8  9  10

11  12  13  14  15  16  17  18  19  20

21  22  23  24  25  26  27  28  29  30

31  32  33  34  35  36  37  38  39  40

41  42  43  44  45  46  47  48  49  50

51  52  53  54  55  56  57  58  59  60

61  62  63  64  65  66  67  68  69  70

71  72





<< © सर्वाधिकार सुरक्षित , भक्तिवेदांत बुक ट्रस्ट >>



Note : All material used here belongs only and only to BBT .
For Spreading The Message Of Bhagavad Gita As It Is 
By Srila Prabhupada in Hindi ,This is an attempt to make it available online , 
if BBT have any objection it will be removed .
 
 

No comments:

Post a Comment